भारतीय प्रीमियर लीग के 13 वें सीजन में सनराइजर्स हैदराबाद का सफर क्वालिफायर टू में समाप्त हो गया है। रविवार को खेले गए तुलना में हैदराबाद को दिल्ली कैपिटल्स के हाथों 17 रन से हार का सामना करना पड़ा। हार के बावजूद हैदराबाद के कप्तान डेविड वार्नर ने अपनी टीम के प्रदर्शन पर गर्व प्रकट किया है। वार्नर ने कहा कि उनकी टीम को शुरुआत में किसी ने भी मजबूत टीम या दावेदार के तौर पर नहीं देखा था, लेकिन फिर भी टीम क्वालीफायर में पहुंची।

वार्नर का मानना ​​है कि हैदराबाद ने पिछले कुछ मैचों में जिस तरह का खेल दिखाया वह काबिल ए तारीफ है। वार्नर ने कहा, “पहली बात, किसी ने भी हमें शुरुआत में दावेदार नहीं माना था। हर कोई तीन बड़ी टीमों दिल्ली, मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बेनोर की बात कर रहा था। इसलिए मुझे अपनी टीम के प्रदर्शन पर गर्व है।”

वार्नर ने कुछ खिलाड़ियों के प्रदर्शन से बेहद प्रभावित दिखे और उन्होंने कहा कि यह खिलाड़ी टीम के लिए सकारात्मक पहल कर रहा है। वार्नर ने कहा, “नटराजन, राशिद खान, मनीष पांडे टीम के लिए सकारात्मक पहलू रहे। हमने दूसरे हाफ में जिस तरह की क्रिकेट खेली हम उसी तरह की क्रिकेट खेलने चाहते थे।”

मुक्केबाजी ने किया था

क्वालीफायर में हालांकि हैदराबाद की फील्डिंग काफी खराब रही। उन्होंने दिल्ली के लिए सबसे ज्यादा 78 रन बनाने वाले शिखर धवन के कुछ कैच छोड़े। वार्नर ने कहा, “आप अगर कैच छोड़ते रहोगे तो आप टूर्नामेंट नहीं जीत सकते। मुझे लगता है कि हमने बल्लेबाजी और गेंद से तो ठीक किया लेकिन हमारी फील्डिंग ने हमें निराश किया।”

हैदराबाद की टीम इस सीजन में अनलकी भी रही क्योंकि उनके दो स्टार खिलाड़ी भुवनेश्वर और साहा मार्किल हो गए। कप्तान ने कहा, “हां, चोटें थीं, लेकिन आपके पास जो है उससे आपको काम चलाना पड़ता है। हम जहां पहुंचे उस पर मुझे अपमान है, किसी ने हमें यहां नहीं सोचा था।”

डीसी बनाम एसआरएच, क्वालिफायर 2: सनराइजर्स हैदराबाद को हराकर पहली बार फाइनल में पहुंची दिल्ली कैपिटल्स





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *