बॉलीवुड में अक्सर नेपोटिज्म का मुद्दा उठाया जाता है। स्टार किड्स को इस मुद्दे की वजह से कई बार ट्रोल भी किया जाता है। एक्टर अभिषेक बच्चन को भी इसका कई बार सामना करना पड़ा है। कई बार उनके पिता और दिग्गज अभिनेता अमिताभ बच्चन से उनकी तुलना की जाती है। अभिषेक बच्चन ने साल 2000 में फिल्म रिफ्यूजी से बॉलीवुड में डेब्यू किया। उनका मानना ​​है कि केवल ऑडियंस की भर्ती करने के बाद ही लंबे समय तक टिक सकते हैं।

अभिषेक बच्चन ने नेपोटिज्म के मुद्दे पर अपनी बात रखी और कहा, “फैक्ट यह है कि उन्होंने (अमिताभ बच्चन) कभी किसी को फोन नहीं किया। उन्होंने कभी भी मेरे लिए फिल्म नहीं बनाई। इसके विपरीत, मैंने उनके लिए एक फिल्म प्रोड्यूस की, जिसका अर्थ है। नाम ‘पा’ है। लोग समझते हैं कि यह एक व्यवसाय है। यदि पहली फिल्म के में आप अपनी कुछ नहीं दिखा रहे हैं या वह फिल्म हिट नहीं हुई है, तो आपको अगला प्रोजेक्ट मिलना बहुत ही मुश्किल होता है या नहीं मिलता है। यही इस दुनिया की है। सच्चाई है। “

कई फिल्मों में रिप्लेस् हो गए हैं

अभिषेक बच्चन ने कहा, “मुझे पता है कि जब मेरी फिल्म नहीं चली, तो मुझे पता है कि मुझे फिल्मों से रिप्लेस किया गया, कुछ को बनाया नहीं जा रहा है। कई फिल्में शुरू हुईं लेकिन बजट की वजह से बन नहीं पाई और वह भी मेरी। पास इतना पैसा नहीं था। यहां आप अमिताभ बच्चन के बेटे हैं। ओह क्या नसे लेकर पैदा हुए हो। “अभिषेक बच्चन की अगली फिल्म ‘लूडो’ रिलीज होने वाली है। इस फिल्म को अनुराग बासु ने डायरेक्ट किया है।

यहां देखिए लूडो में अभिषेक बच्चन का लुक

लूडो में क्रिमिनल बने हैं अभिषेक

इस फिल्म में अभिषेक बच्चन क्रिमिनल का किरदार निभा रहे हैं। ‘लूडो’ एक डार्क कॉमेडी एंथोलॉजी है, जिसमें आदित्य रॉय कपूर, राजकुमार राव, सान्या मल्होत्रा, फातिमा सना शेख, रोहित सराफ, पियरले माने, पंकज त्रिपाठी, आशा नेगी, शालिनी वत्स और इनायत वर्मा अहम किरदार हैं।

ये भी पढ़ें-

KBC 12 सीजन को मिला पहला करोड़पति, अन्याय ने दिया एक करोड़ के सवाल का सही जवाब, VIDEO

ट्विटर पर बहस, अश्लीलता फैलाने पर गिरफ्तार हुए पूनम पांडे तो न्यूड बन मिलिंद सोमन कैसे बच गए?





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *